केदारनाथ धाम में पुनः संरक्षित की जायेगी ब्रह्मवाटिका..

केदारनाथ धाम में पुनः संरक्षित की जायेगी ब्रह्मवाटिका..
0 0
Read Time:5 Minute, 19 Second

harendra negi

रूद्रप्रयाग। केदारनाथ में आई प्रलयकारी आपदा के बाद केदारपुरी में नयी.नयी चीजे देखने को मिली। आपदा के बाद पहली बार पुलिस टीम ने केदारनाथ धाम में सब्जी की खेती कीए जबकि धाम से ऊपर वासुकीताल में पाये जाने वाले भगवान शिव के प्रिय पुष्प ब्रहमकमल का भी रोपण किया गयाए जिसमें पुलिस टीम को सफलता भी मिली। इसके अलावा पुलिस जवानों को चुस्त.दुरूस्त रखने के लिए बैडमिंटन वॉलीबॉल कोर्ट का भी निर्माण कियाए पिछले साल से धाम में ब्रहमकमल का नामोनिशान मिट गया है और सब्जी के साथ ही खेल का कोई साधन नहीं है। अब पुलिस अधीक्षक नवनीत सिंह के प्रयासों से पुनः केदारनाथ के पुलिस कैंप में ब्रह्मवाटिका को पुनः संरक्षित करने का प्रयास किया जायेगा। बरसाती मौसम में वासुकीताल व अन्य ऊपरी क्षेत्रों से ब्रह्मकमल व अन्य पुष्प प्रजाति के पौध लाकर यहां रोपी जाएंगी और नियमित संरक्षण किया जाएगा। वाटिका के संरक्षण के लिए पुलिस द्वारा योजना तैयार की जा रही है।
बता दें कि वर्ष 2013 की प्रलयकारी आपदा में केदारनाथ धाम में सबकुछ तबाह हो गया था। आपदा के बाद धाम में सबकुछ नया निर्माण किया जा रहा हैए जबकि इससे इतर पुलिस की टीम ने भी नये अनुभव धाम में तैयार किये। जो चीज कभी धाम में सोची भी नहीं जा सकती थीए उन चीजों का निर्माण कर सबको हैरान कर दिया और उनके इस प्रयासों की पीएम मोदी से लेकर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने भी प्रशंसा की। आपदा के बाद केदारनाथ में तैनात तत्कालीन चैकी प्रभारी बिपिन चंद्र पाठक ने अपनी टीम के साथ पुलिस कैंप के पास ब्रह्मवाटिकाए बैटमिंटन व बाॅलीबाल कोट के साथ ही सब्जी के लिए खेतों का निर्माण किया। उन्होंने यहां पर तीन नाली जमीन पर मूलीए राई व आलू की खेती की। जिसमें उन्हें पूर्ण सफलता मिली और पुलिस जवानों ने सब्जी का आनंद लिया। धाम में आलू का अच्छा उत्पादन हुआ। इसके साथ ही आधा नाली में श्री पाठक ने टीम के साथ पुलिस कैंप के समीप ही ब्रह्मवाटिका तैयार की। वाटिका में वासुकीताल से ब्रह्मकमल के पांच पौधे लेकर रोपे गए। इसके बाद पूरे यात्राकाल व शीतकाल में पुलिस जवानों ने तैनात रहते हुए वाटिका का संरक्षण किया। वर्ष 2017 में इस वाटिका में पहली बार जून माह के पहले सप्ताह में ब्रह्मकमल का फूल खिला। साथ ही कई नई पौध भी तैयार हो गई थी। वर्ष 2018 में वाटिका में 25 से अधिक ब्रह्मकमल के फूल खिले थेए जो पूरे जून माह तक पूरी तरह से स्वस्थ्य रहे। पीएम नरेंद्र मोदीए रक्षामंत्री राजनाथ सिंहए पूर्व सीएस उत्पल कुमार समेत देश.विदेश से आने वोल श्रद्धालुओं ने ब्रहम वाटिका की प्रशंसा की। मगर बीते वर्ष फरवरी माह में विपिन चन्द्र पाठक का ट्रांसफर गढ़वाल परिक्षेत्र देहरादून में हो गयाए जिसके बाद से वाटिका का उचित संरक्षण नहीं होने से इसकी स्थिति बदहाल हो गई। स्थिति यह है कि इस बार वाटिका में एक भी फूल नहीं हैए लेकिन अब पुलिस अधीक्षक नवनीत सिंह की ओर से वाटिका के संरक्षण की योजना तैयार की जा रही है। पुलिस अधीक्षक नवनीत सिंह भुल्लर ने बताया कि केदारनाथ में तैनात टीम को वाटिका के संरक्षण के लिए जरूरी निर्देश दिए गए हैं। वाटिका की साफ.सफाई कर खुदाई की जाएगी और इसी माह वासुकीताल से ब्रह्मकमल की दस पौध समेत भृंगराज व बुग्यालों में खिलने वाले रंग.बिरंगे फूलों की पौध भी रोपी जाएंगी।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social profiles