चीन करा रहा है तकनीक की चोरी

चीन करा रहा है तकनीक की चोरी
0 0
Read Time:2 Minute, 31 Second

अमेरिका की अदालत ने चीन को दूसरे देशों की कंपनियों से हैकर्स के जरिए चोरी कराने का दोषी पाया है। पिछले कुछ समय से राष्ट्रपति ट्रंप ने भी लगातार चीन पर हैकर्स के जरिए कोरोना की वैक्सीन का डेटा चोरी करने का आरोप लगा रहे हैं।
दरअसल चीन के दो हैकर्स पर अमेरिका की प्रमुख दवा कंपनियों के कंप्युटर्स से महत्वपूर्ण जानकारियां चुराने का आरोप लगा था। इसपर सुनवाई चल रही थी। इसपर अपने फैसले में अमेरिका के न्याय विभाग ने दो हैकर्स को अमेरिका की बोयोटेक और डाइग्नोस्टिक कंपनियों के कंप्यूटर्स में सेंध लगाने का दोषी ठहरा दिया है। ये दोनों अमेरिकी कंपनियों के कंप्यूटर्स से लंबे समय से जानकारियां चुरा रहे थे। इन दोनों का काम था कि अमेरिकी कंपनियां क्या खोज़ रही हैं। इसकी जानकारी जुटाना। हैकर्स पर गोपनीय व्यावसायिक जानकारी चोरी करने और वायर फ्रॉड साजिश करने का आरोप है। दोनों हैकर्स कंप्यूटर इंजीनियर हैं, जोकि दस सालों से ज्य़ादा समय से अमेरिका, जर्मनी, फ्रांस और ऐसे करीब 10 प्रमुख देशों की तकनीकी कंपनियों मे सेंधमारी कर रहे थे। इनपर आरोप है कि ये दोनों चीनी खुफिया सेवा के एक अधिकारी के साथ मिलकर कई लोगों के ईमेल और पासवर्ड पर काम कर रहे थे।
अदालत में बहस के दौरान नेशनल सिक्योरिटी जॉन सी डेमर्स के सहायक अटॉर्नी जनरल ने कहा, “चीन अब उन देशों में शामिल हो गया है जोकि साइबर अपराधियों के जरिए दूसरे देशों की तकनीक चोरी करवाते हैं। रूस, ईरान और उत्तर कोरिया तो पहले ही ऐसा करते थे। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी अमेरिकी और अन्य गैर-चीनी कंपनियों की कड़ी मेहनत से अर्जित बौद्धिक संपदा, कोविड-19 शोध सहित अन्य पर हमला करते हैं।”

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social profiles