तय समय पर जेईई-मेन परीक्षा 85 फीसदी उम्मीदवारों ने डाउनलोड किया एडमिट कार्ड, सरकार पर सवाल फिर संसद सत्र तुरंत बुलाने पर क्यों है परहेज

तय समय पर जेईई-मेन परीक्षा 85 फीसदी उम्मीदवारों ने डाउनलोड किया एडमिट कार्ड, सरकार पर सवाल फिर संसद सत्र तुरंत बुलाने पर क्यों है परहेज
0 0
Read Time:4 Minute, 52 Second

तय समय पर जेईई-मेन परीक्षा 85 फीसदी उम्मीदवारों ने डाउनलोड किया एडमिट कार्ड, सरकार पर सवाल फिर संसद सत्र तुरंत बुलाने पर क्यों है परहेज

नयी दिल्ली। तमाम सहयोगी और विपक्षी दलों की मांग के बावजूद सरकार ने जेईई मेन की परीक्षाएं कराने के निर्णय को बरकरार रखा है।

सोशल मीडिया में सवाल उठाया गया है कि सरकार ने 5 महीने से संसद नहीं खोली है जबकि 6 महीने में संसद खोलने की संवैधानिक अनिवार्यता है और अब जब संसद खोलने की बात की जा रही है तो कहा जा रहा है कि संसद में प्रश्नकाल यानी सांसद सरकार से सवाल नहीं पूछ सकते। सवाल उठता है कि जब नीट और जेईई परीक्षा करवा सकते हैं जहां 9,.50 लाख बच्चे बैठेंगे तो संसद में प्रश्नकाल क्यों लागू नहीं हो सकता और क्यों तुरंत संसद का सत्र नहीं बुलाया जा रहा।

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) ने ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन (JEE) के लिए एडमिट कार्ड जारी कर दिए हैं। अब जल्द ही नीट अंडर ग्रेजुएट-2020 परीक्षा के लिए भी एडमिट कार्ड जारी किए जाएंगे। जेईई मेन की 1 से 6 सितंबर के बीच परीक्षा होगी।

लाखों छात्र सामाजिक दूरी के नियम का पालन करते हुए अपनी परीक्षाएं देंगे। हालांकि, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जबकि ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक से जेईई परीक्षा टालने की अपील की है।

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी बुधवार को गैर एनडीए शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक करेंगी। जिसमें जेईई मेन और नीट परीक्षा के मुद्दे पर चर्चा की जाएगी। माना जा रहा है कि विपक्ष सरकार पर परीक्षाओं को रद्द कराने का दवाब डालने की कोशिश करेगी। नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने मंगलवार को साफ कर दिया है कि परीक्षाएं अपने तय समय पर ही होंगी। जिसका मतलब है कि 1 से 6 सितंबर तक जेईई मेन और 13 सितंबर को नीट की परीक्षा होगी।

ग्रेटा थनबर्ग ने परीक्षा टालने का किया समर्थन

स्वीडिश जलवायु परिवर्तन कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग ने कोरोना महामारी से उत्पन्न स्थितियों को देखते हुए भारत में होने वाली जेईई मेन और नीट का परीक्षाओं को टालने का समर्थन किया है। ग्रेटा थनबर्ग ने कहा कि यह बहुत अनुचित है कि कोरोना महामारी के समय छात्रों को परीक्षाओं में बैठके के लिए कहा जा रहा है।

उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा कि यह बहुत अनुचित है भारत के छात्रों को ऐसे समय में परीक्षा में बैठने के लिए कहा जा रहा है जब कोविड-19 महामारी के साथ लाखों लोग बाढ़ से भी प्रभावित हैं। इसी के साथ उन्होंने #PostponeJEE_NEETinCOVID का जिक्र करते हुए कहा कि मैं स्थगित करने के समर्थन में हूं।

85 फीसदी एडमिट कार्ड हुए डाउनलोड

एनटीए के महानिदेशक विनीत जोशी से मिली जानकारी के मुताबिक, 25 अगस्त को शाम 5 बजे तक जेईई मेन के करीब 85 फीसदी उम्मीदवारों ने अपना एडमिट कार्ड डाउनलोड कर लिए हैं। इसके अलावा कुल 320 उम्मीदवार ऐसे हैं जिन्होंने परीक्षा के लिए अपने शहर को बदलने का अनुरोध किया है। सरकारी सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, तय समय पर ही परीक्षाओं को आयोजित कराया जाएगा। इस बार 9.5 लाख से अधिक जेईई मेन और नीट में 15 लाख से ज्यादा उम्मीदवार दिखाई देंगे।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social profiles