20,30,40 साल के लोग फैला रहे हैं भारत में कोविड, 21-50-वर्षीय 61% लोगों को कोरोना

20,30,40 साल के लोग फैला रहे हैं भारत में कोविड, 21-50-वर्षीय 61% लोगों को कोरोना
0 0
Read Time:3 Minute, 16 Second

20,30,40 साल के लोग फैला रहे हैं भारत में कोविड, 21-50-वर्षीय 61% लोगों को कोरोना

नई दिल्ली: यह वे युवा हैं, वे अपने बुजुर्ग अभिवावकों की तुलना में सामाजिक रूप से अधिक सक्रिय हैं और कोविद -19 से पीड़ित होने के बाद भी अक्सर उन्हें बीमारी महसूस नहीं होती।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने इस सप्ताह की शुरुआत में कहा था कि उनके 20, 30 और 40 साल के लोग ही कोविद -19 महामारी को फैला रहे हैं।

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के आंकड़ों के जरिए भी भारत में भी यही प्रवृत्ति दिखाई दे रही है, जिसमें कहा गया है कि भारत में अब तक दर्ज 27,32,992 कोविद -19 मामलों में 61.31 प्रतिशत लोग 21 से 50 वर्ष के बीच के हैं।

यह संक्रमण दर इस आयु वर्ग के कुल आबादी के हिस्से से कहीं अधिक है यानी इस आयु वर्ग की जितनी आबादी नहीं है, उससे ज्यादा यह संक्रमण फैला रहे हैं।

यह वह लोग हैं जो लगभग 1960 के दशक से 1970 के दशक की शुरुआत में, 1980 से मध्य 1990 के दशक और 1990 के दशक के मध्य से 2010 के आसपास पैदा हुए हैं।

2011 की जनगणना के आंकड़ों के अनुसार, 36.3 प्रतिशत भारतीय 20 से 44 वर्ष की आयु के हैं।

शीर्ष पांच उच्च बोझ वाले राज्यों – महाराष्ट्र, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, कर्नाटक और उत्तर प्रदेश में भी इस प्रवृत्ति का चलन है।

विशेषज्ञों का कहना है कि युवा लोगों में बीमारी का प्रसार आश्चर्यजनक नहीं है, और 1918 के स्पेनिश फ्लू इस प्रवृत्ति का ऐतिहासिक मिसाल है। यह सब इस तथ्य से उजागर होता है कि युवा शहर में बुजुर्ग लोगों की तुलना में अधिक बार अन्दर बाहर आते जाते हैं।

भारत में कोविद -19 से सबसे ज्यादा प्रभावित महाराष्ट्र में 20 से 50 आयु वर्ग के लोग कुल मामलों में 56.34 प्रतिशत हैं।

यूपी में, 18 अगस्त तक पंजीकृत 1,67,510 मामलों में से, 49.84 प्रतिशत – या 83,486 मामले – 20 से 40 वर्ष की आयु के हैं।

तमिलनाडु में 20 अगस्त तक दर्ज किए गए 3,61,435 मामलों में, 82 प्रतिशत – या 2,98,124 – 60 से अधिक आयु वर्ग में 46,055 मामलों के साथ 13 से 60 के बीच आयु वर्ग के थे।

आंध्र प्रदेश ने 20 अगस्त तक 3,16,000 मामले दर्ज किए थे, जिनमें से 78,603 21-30 वर्ष की श्रेणी में हैं। ऐसी प्रवृत्ति अन्य कई राज्यों में भी देखी गई है।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social profiles