BJP: 6 साल बाद कोषाध्यक्ष की कुर्सी भरी गई, 77 वर्ष की उम्र में राजेश अग्रवाल को मिली जिम्मेदारी

BJP: 6 साल बाद कोषाध्यक्ष की कुर्सी भरी गई, 77 वर्ष की उम्र में राजेश अग्रवाल को मिली जिम्मेदारी
0 0
Read Time:5 Minute, 6 Second

6 साल बाद भाजपा में कोषाध्यक्ष की कुर्सी भरी गई, 77 वर्ष की उम्र में राजेश अग्रवाल को मिली जिम्मेदारी

नई दिल्ली: बीजेपी के संगठनात्मक फेरबदल में शनिवार को पार्टी ने आखिरकार एक कोषाध्यक्ष की नियुक्ति की, जो 2014 से पीयूष गोयल को केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल करने के बाद ख़ाली पड़ी थी।

यह पद उत्तर प्रदेश के पूर्व वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल को सौंपा गया है, जो इससे पहले राज्य भाजपा इकाई के कोषाध्यक्ष के रूप में कार्य कर चुके हैं। मध्य प्रदेश से संसद के सदस्य सुधीर गुप्ता को संयुक्त कोषाध्यक्ष नियुक्त किया गया है।

एक साल पहले स्वास्थ्य और बढ़ती उम्र का हवाला देकर योगी सरकार से इस्तीफा देने वाले राजेश अग्रवाल 77 वर्ष की उम्र में भाजपा के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष बनाये गए। वैसे पार्टी ने सैद्धांतिक तौर पर तय किया है कि 75 पार के नेताओं को संगठन में कोई पद नही।

अग्रवाल और गुप्ता दोनों की आरएसएस पृष्ठभूमि है। 2014 में अमित शाह के भाजपा अध्यक्ष का पद संभालने के तुरंत बाद आयोजित संगठनात्मक नियुक्तियों की कवायद में कोषाध्यक्ष का पद रिक्त था।

आरएसएस से नाता

बरेली के रहने वाले अग्रवाल पिछले 25 सालों से यूपी विधानसभा के सदस्य हैं। उन्होंने 2003 से 2007 तक यूपी विधानसभा में उपाध्यक्ष के रूप में कार्य किया।

2019 तक, वह योगी आदित्यनाथ सरकार में वित्त मंत्री थे। उन्होंने 75 साल की उम्र के बाद पद से इस्तीफा दे दिया, कथित तौर पर “पार्टी की नीति” का सम्मान करने के लिए ।

पीएम नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के नेतृत्व में, जिन्होंने पिछले साल तक बीजेपी अध्यक्ष के रूप में कार्य किया था, 75 वर्ष से अधिक आयु के नेताओं को माना जाता है कि वे सक्रिय राजनीति से बाहर निकलकर एक सलाहकार की भूमिका में रहे।

भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, “उन्हें 75 साल के होने के बाद इस्तीफा देना पड़ा। जब उन्हें स्वतंत्र देव सिंह के तहत नए राज्य भाजपा में जगह नहीं मिली, तो उन्हें आश्वासन दिया गया था कि उन्हें केंद्रीय संगठन में कुछ जिम्मेदारी दी जाएगी।” “वह पूर्व महासचिव संगठन राम लाल के काफी करीबी माने जाते हैं, और विषय उन्हें पीएम मोदी भी काफी मानते हैं।

पार्टी के एक दूसरे पदाधिकारी ने कहा कि अग्रवाल को यह पद दिया गया है क्योंकि उन्हें इस काम का अनुभव है।

“वित्त मंत्री के रूप में उनका अनुभव उन्हें जिम्मेदारी को अच्छी तरह से संभालने में भी मदद करेगा। यह एक महत्वपूर्ण पद है, जैसे कि भाजपा जैसी पार्टी के लिए, जिले से राज्य स्तर तक के खातों को देखना होगा। एक तीसरे नेता ने कहा कि इसे बहुत अधिक पर्यवेक्षण की आवश्यकता है और किसी को निरंतर निगरानी करनी होगी।

एक वरिष्ठ नेता ने बताया, “वह एक संगठन के व्यक्ति हैं और उन्होंने उत्तर प्रदेश के महासचिव के रूप में भी काम किया है। यूपी की राज्य इकाई में कोषाध्यक्ष के रूप में उनका पिछला अनुभव काम आएगा।”

संयुक्त कोषाध्यक्ष

गुप्ता एक सांसद हैं, जिन्होंने 2014 से लगातार दो बार मध्य प्रदेश की मंदसौर सीट जीती है।

भाजपा के एक वरिष्ठ नेता के अनुसार, गुप्ता की आरएसएस जड़ें भी हैं और विश्व हिंदू परिषद (VHP) से भी जुड़े थे।

“वह राम जन्मभूमि अभियान का हिस्सा थे। वह लंबे समय तक आरएसएस से जुड़े रहे, और दो बार मध्य प्रदेश से संसद सदस्य के रूप में चुने गए, ”एक अन्य नेता ने कहा।

—–

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social profiles