Soft Hindutva: की राह पर फिर कांग्रेस, 2018 के मध्य प्रदेश फार्मूले का उपचुनाव से पहले फिर सहारा

Soft Hindutva: की राह पर फिर कांग्रेस, 2018 के मध्य प्रदेश फार्मूले का उपचुनाव से पहले फिर सहारा
0 0
Read Time:3 Minute, 54 Second

जब मध्य प्रदेश (Madhya pradesh) में प्रदर्शनकारियों का एक समूह, दुर्गा (Durga) की मूर्तियों और पंडालों की ऊंचाई और आकार पर प्रतिबंध हटाने की मांग कर रहा था। यह समूह अनियंत्रित हो गया और पुलिस को हल्के लाठीचार्ज का सहारा लेना पड़ा। इस मुद्दे को लेकर कांग्रेस (Congress) काफी सक्रियता दिखा रही है।

विपक्षी दल ने पुलिस को प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने में कामयाब होने के बाद ट्वीट किया, ” शिवराज के खिलाफ हिन्दूओं का विरोध, शिवराज ने हिंदुओं पर लाठियां बरसाईं। भोपाल के रोशनपुरा चौक पर। ”

आगामी दुर्गा पूजा उत्सव के दौरान भक्तों की भीड़ को सीमित करने के लिए मध्य प्रदेश में भाजपा सरकार (BJP Government) ने मूर्ति का आकार 6 फीट और पंडाल का आयाम 10 × 10 फीट तक सीमित कर दिया है। हिंदू संगठनों ने इस फैसले को पसंद नहीं किया है। कांग्रेस इन हिंदू संगठनों का पूरा साथ दे रही है।

इसे देख कर ऐसा प्रतीत होता है कि कांग्रेस ने जिस तरह राज्य में 2018 के विधानसभा चुनावों से पहले नियोजित रणनीति के तहत अपने नरम हिंदुत्व को दिखाने की कोशिश की थी। उसे अब महत्वपूर्ण उपचुनाव से पहले इसे अपनाने की कोशिश कर रही है।

कांग्रेस ने सोमवार को आरोप लगाया कि विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व करने वाले हिंदू संगठन के कई पदाधिकारी घायल हो गए, और प्रतिबंधों को अनुचित बताया। सोशल मीडिया पर पार्टी ने मध्य प्रदेश में अपनी 15 महीने की सरकार के दौरान बहुसंख्यक समुदाय के लिए की गई पहल का प्रचार किया।

जिसमें उज्जैन, देवास, मांडू और महेश्वर को एक धार्मिक और आध्यात्मिक पर्यटन स्थल के रूप में स्थापित करने के लिए उज्जैन को जोड़कर एक ओम सर्किट विकसित करना शामिल है। इसके अलावा रामायण के अनुसार
वनवास के समय भगवान राम द्वारा उनके निर्वासन के मार्ग राम वन गमन पथ का पता लगाने, गौशालाओं का निर्माण और मंदिर के पुजारियों का मानदेय बढ़ाना शामिल है।

कांग्रेस की हिंदुत्ववादी साख

महत्वपूर्ण उपचुनावों से पहले अपनी हिंदुत्ववादी साख को आगे बढ़ाते हुए कांग्रेस ने 2018 के विधानसभा चुनावों से पहले वही रास्ता अपनाया, जब उसने भाजपा को पछाड़ने के लिए आक्रामक तरीके से हिंदुत्व के पक्ष में कदम रखा था।

भले ही 28 निर्वाचन क्षेत्रों के लिए उपचुनावों की तारीखें, जो शिवराज सिंह चौहान सरकार की दीर्घायु का फैसला करेंगे, अभी तक घोषित नहीं किए गए हैं, कांग्रेस के नेता इन दिनों मंदिरों में जाने का कोई मौका नहीं चूकते हैं, ठीक उसी तरह जैसे उन्होंने 2018 विधानसभा चुनाव के लिए किया था। उस समय भी राहुल गांधी ने मंदिरों में जा कर पूजा अर्चना की थी।

—–

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social profiles