Faridabad murder: राजनैतिक रसूख के चलते बेखौफ था तौफीक ख़ान

0 0
Read Time:2 Minute, 30 Second

फरीदाबाद में निकिता तोमर की गोली मारकर हत्या कर दी गई है। गोली मारने वाला तौफीक ख़ान के परिवार का राजनैतिक रसूख है। कांग्रेस के विधायक आफताब अहमद उसका चचेरा भाई है। जबकि  हुड्डा सरकार में परिवहन मंत्री रहे खुर्शिद अहमद उसके चाचा हैं। दादा भी कांग्रेस से विधायक रहे थे। इन्हीं के दम पर तौफीक की हिम्मत इतनी बढ़ गई थी कि उसने सरेआम निकिता को गोली मार दी। ख़ास बात ये है कि दो साल पहले भी तौफीक ने निकिता  का अपहरण किया था। लेकिन उस समय कांग्रेस नेता रहे तौफीक के चाचा और भाई ने निकिता ने प्रशासन पर दबाव बनाकर निकिता तोमर के परिवार के साथ समझौता कर लिया था।

निकिता के पिता मूलचंद तोमर के मुताबिक बल्लभगढ़ के इस इलाके में ये परिवार काफी हावी रहता है। तौसीफ के दादा कबीर अहमद विधायक रहे हैं। जबकि चाचा खुर्शीद अहमद तो हुड्‌डा सरकार में परिवहन मंत्री रहे हैं। मेवात से कांग्रेसी विधायक आफताब आलम इस तौफीक का चचेरा भाई है। इसलिए तौफीक पहले भी निकिता को अक्सर परेशान करता रहता था। इससे पहले 3 अगस्त 2018 को तौफीक ने निकिता का अपहरण कर लिया था। वो अपहरण भी दिन दिहाड़े सभी के सामने किया गया था। पुलिस को जानकारी के बाद जब दबाव बना तो तौफीक ने निकिता को तो छोड़ दिया था। लेकिन पुलिस इस कांग्रेस विधायक के परिवार का कुछ नहीं बिगाड़ पाई थी। केस दर्ज होने पर दबाव बनाकर समझौता करा दिया।

पुलिस सूत्रों की माने तो तौफीक इतना बेखौफ था कि निकिता को गोली मारने के बाद वो वहां से तो भाग गया, लेकिन उसने अपने मोबाइल फोन बंद नहीं किया। बल्कि वो अपने रिश्तेदारों से लगातार बात कर रहा था कि क्या किया जाए।

 

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.