ममता ने हिन्दी और हिन्दू को लुभाया, भाजपा ने कहा , सीएम ‘डर गईं ‘, तृणमूल ने कहा, राजनीति नहीं एकजुटता

ममता ने हिन्दी और हिन्दू को लुभाया, भाजपा ने कहा , सीएम ‘डर गईं ‘, तृणमूल ने कहा, राजनीति नहीं एकजुटता
0 0
Read Time:2 Minute, 24 Second

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी राज्य में हिंदी बोलने वालों और हिंदुओं को लुभाने की कोशिश करती दिख रही हैं।

हालांकि वह जोर देते हुए कहती है कि इसके बारे में कुछ भी “राजनीतिक” नहीं है।

सोमवार को हिंदी दिवस के अवसर पर, बनर्जी ने बंगाल में हिन्दी भाषा बोलने वाले 14 प्रतिशत लोगों के बीच भाजपा की बढ़ती छाप को रोकने के लिए अपनी तृणमूल कांग्रेस पार्टी की हिंदी सेल का पुनर्गठन किया। उनकी सरकार ने राज्य में हिंदी भाषी लोगों की भाषा, साहित्य और संस्कृति के संरक्षण के लिए एक हिंदी अकादमी की भी शुरुआत की।

बनर्जी ने हिंदू पुरोहितों (पुजारियों) के लिए 1,000 रुपये के मासिक वजीफे की भी घोषणा की। उनकी सरकार ने स्टाइपेंड के समान आठ साल पहले मुस्लिम इमामों को देना शुरू कर दिया था जिसे पिछले साल के लोकसभा चुनावों में बीजेपी ने इसे मुद्दा बनाया था।

भाजपा प्रमुख जेपी नड्डा ने पिछले गुरुवार को ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए बंगाल सरकार पर ‘हिंदू विरोधी’ मानसिकता रखने का आरोप लगाया था।

बंगाल सरकार ने दलित साहित्य और संस्कृति के संरक्षण के लिए एक अकादमी की भी घोषणा की है, और सीएम बनर्जी ने कहा कि इन योजनाओं को “राजनीतिक कदम के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए।

लेकिन विशेषज्ञों का दावा है कि ये बंगाल की “उदारवादी राजनीति” को “धर्म-आधारित राजनीति” में बदलने के तरीके हैं, क्योंकि भाजपा बड़े पैमाने पर प्रचार कर रही है।

वही भाजपा नेताओं का कहना है कि बनर्जी “इतनी डरी हुई” हैं कि वह हिंदुओं और दलितों के बीच अपने मतदाता-आधार को पुनर्जीवित करने की कोशिश कर रही हैं।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social profiles