भारतीय वायुसेना में शामिल हुए राफेल…

भारतीय वायुसेना में शामिल हुए राफेल…
0 0
Read Time:3 Minute, 7 Second

अंबाला के एयरफोर्स स्टेशन पर बृहस्पतिवार को पांच राफेल भारतीय वायुसेना में शामिल हो गए। इस मौके पर भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और फ्रांस के रक्षा मंत्री भी मौजूद थे। ये पांचों विमानों फ्रांस से 7000 किलोमीटर का सफर पूरा करके 29 जुलाई अंबाला एयरबेस पर आए थे। इस मौके पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि सीमा पर किसी भी तरह का अतिक्रमण करने वालों को भारत बर्दाश्त नहीं करेगा। उन्होंने वायुसेना की तारीफ करते हुए कहा कि जब सीमा पर तनाव है तो ऐसे में वायुसेना ने अपने सीमावर्ती बेस पर तेज़ी से तैनाती की है।

परमाणु क्षमता वाले राफेल के भारतीय वायुसेना में शामिल होने से सीमा पर भारत के खिलाफ काम करने वाले देशों को काफी परेशानी हुई है। ख़ासकर चीन और पाकिस्तान भारत में इस विमान के आने से काफी परेशान हैं। दरअसल ये विमान फोरथ जनरेशन का ऐसा विमान है जो हवा से हवा में हवा से ज़मीन पर तेजी से वार करता है। साथ ही अपने साथ ये 9500 किलोग्राम तक वज़न वाले बम और मिसाइल साथ ले जा सकता है। इससे ये दुनिया के किसी भी इलाके को तबाह कर सकता है। साथ ही विमान 100 किलोमीटर दूर से आ रहे किसी भी विमान मिसाइल को आसानी से पहचान लेता है। जोकि दुश्मन पर किसी भी तरह की नज़र रखने में कामयाब रहता है और उसे पहले ही जवाब देने की तैयारी कर लेता है। बड़ी बात ये है कि ये विमान भारत की सीमा के भीतर रहकर ही पाकिस्तान या चीन के हवाई अड्डों को निशाना बना सकता है। इसके पास ऐसी मिसाइल्स हैं जोकि 100 किलोमीटर दूर तक निशाना लगा सकती हैं। 10.3 मीटर की लंबाई वाला राफेल 55 हज़ार किलोमीटर की ऊंचाई से ही हमला कर सकता है। जिस एयरबेस पर विमान को तैनात किया है। वहां से ये विमान 6 मिनट में ही चीन की सीमा मे दाखिल हो सकता है। समारोह में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के अलावा हरियाणा के राज्यपाल सत्‍यदेव नारायण आर्य और प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल भी मौजूद थे।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social profiles