Sushant Singh Case: रिया चक्रबर्ती की औकात नहीं है, सीएम पर कमेंट करने की..

0 0
Read Time:3 Minute, 19 Second

डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि हमारे ऊपर आरोप लगाए जा रहे थे कि हमने कानूनी रूप से सही काम नहीं किया। कोर्ट के फैसले से सबकुछ साफ हो गया है।
डीजीपी ने कहा- नीतीश कुमार के सपोर्ट से ही सुशांत के परिवार वालों को न्याय मिलने की उम्मीद जगी
‘बिहार पुलिस की जांच के दौरान मुंबई पुलिस ने क्या किया, यह सबने देखा’

बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले की जांच सीबीआई से कराने के फैसले को सही ठहराए जाने को न्याय की जीत बताया। सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को यह फैसला सुनाया। हालांकि इस दौरान उन्होंने रिया चक्रबर्ती को लेकर ऐसा कहा जोकि रिया पर काफी तीखा हमला माना जा रहा है। रिया चक्रवर्ती के परिवार वालों की तरफ से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर कमेंट को लेकर डीजीपी ने कहा कि उनकी औकात नहीं है कि नीतीश पर कुछ बोल सकें। नीतीश कुमार के सपोर्ट से ही सुशांत के परिवार वालों को न्याय मिलने की उम्मीद जगी है।
बिहार सरकार के केस सीबीआई को देने के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट की मोहर के बाद डीजीपी पांडे ने कहा, ‘‘यह साबित हो गया कि बिहार पुलिस सही काम कर रही थी। बिहार पुलिस की जांच के दौरान मुंबई पुलिस ने क्या किया, यह सबने देखा। देश की 130 करोड़ जनता सुशांत को इंसाफ दिलाने के लिए लड़ाई लड़ रही है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले से सभी लोग खुश हैं।’’
डीजीपी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले से लोगों के मन में उम्मीद जगी है कि सुशांत सिंह के मामले में न्याय होगा। यह पूरे देश के लिए बहुत बड़ी बात है। पूरा देश सुप्रीम कोर्ट की तरफ टकटकी लगाए देख रहा था। हम पर भी आरोप लगाए जा रहे थे कि हमने कानूनी रूप से संवैधानिक रूप से सही काम नहीं किया। कोर्ट के फैसले से सब कुछ साफ हो गया है।
दरअसल सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद से ही मुंबई पुलिस और बिहार पुलिस के बीच में तनातनी चल रही है। मुंबई पुलिस ने बिहार पुलिस को इस मामले से बाहर रखने के लिए इस मामले की जांच कर रहे आईपीएस अधिकारी तक को क्वारंटीन कर दिया था। इसपर शिवसेना की ओर से भी काफी बयानबाज़ी हुई थी।

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Social profiles