#SerumFire: सीरम के पुणे प्लांट में लगी आग, CoviShield सुरक्षित

0 0
Read Time:2 Minute, 58 Second

#CoviShield: पुणे में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) की फैक्टरी में भयानक आग लग गई है। जिसमें पांच लोगों की मौत अभी तक हो चुकी है। फैक्टरी की टर्मिनल-1 की चौथी और पांचवीं मंजिल पर भीषण आग लग गई। आग BCG वैक्सीन लैब में लगी थी, इसमें से छह लोगों को सुरक्षित भी निकाला गया है। आग पर काबू पा लिया गया है।

दरअसल जिस बिल्डिंग में आग लगी है, वहां वेल्डिंग का काम चल रहा था। आग में जलकर मरने वाले सभी लोग यहां काम कर रहे मज़दूर हैं। अभी प्लांट में तलाशी अभियान चल रहा है। आग लगने की वजह अभी साफ नहीं है।

कंपनी के CEO अदार पूनावाला ने ट्विट कर हादस में मरने वालों के प्रति संवेदना व्यक्त की और कहा कि कोरोना वैक्सीन कोवीशिल्ड के उत्पादन पर इस आग से कोई असर नहीं पड़ेगा। कोवीशिल्ड सेफ है। हालांकि पहले उन्होंने कहा था कि आग से किसी की मौत नहीं हुई है। बाद में मौतों की सूचना मिलने पर उन्होंने गहरा दुख जाहिर किया। कोवीशिल्ड पर उन्होंने कहा कि ऐसी स्थितियों से निपटने के लिए कंपनी ने कई प्रोडक्शन बिल्डिंग तैयार कर रखी हैं।

हालांकि जिस SII के पुणे प्लांट में आग लगी है, उसी में ही कोवीशील्ड वैक्सीन बनाई जा रही हैं। पुणे के पुलिस कमिश्नर अमिताभ गुप्ता ने बताया कि SII के मंजरी प्लांट में आग लगी। वहां फिलहाल प्रोडक्शन नहीं हो रहा था, लेकिन इसके लिए पूरी तैयारियां थीं। वैक्सीन प्लांट और स्टोरेज पूरी तरह सुरक्षित है।

दरअसल कोवीशिल्ड वैक्सीन बनाने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी है। पूरी दुनिया के देश वैक्सीन के एक बड़े हिस्से के लिए सीरम पर निर्भर हैं। कंपनी अभी तक अलग-अलग वैक्सीन के 1.5 अरब डोज बेच चुकी है। य

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (WHO) से मान्यता प्राप्त सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) की वैक्सीन 170 देशों में सप्लाई होती हैं। यह कंपनी पोलियो वैक्सीन के साथ-साथ डिप्थीरिया, टिटनस, पर्ट्युसिस, HIV, BCG, आर-हैपेटाइटिस बी, खसरा, मम्प्स और रूबेला के टीके भी बनाती है।

 

Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.